GBPEC

Redefining the universe

Virtual Drive to GBPEC

Posted by सन्दीप on February 9, 2008


Long time since I posted here. As usual busy with work and lost contact with GBPEC so no update. You can avail much of the information from ORKUT Community anyway (Contact US)

Here are some pics of our College



Advertisements

3 Responses to “Virtual Drive to GBPEC”

  1. baba said

    फर्जी योग्यता पर बने कालेज के प्राचार्य

    इंजीनियरिंग कालेज घुड़दौड़ी के प्राचार्य जेएस विर्क के पास अनुभव का प्रमाण नहीं लोंगोवाल से बर्खास्त किए गए थे, गुवाहाटी हाईकोर्ट ने भी ठहराया था पद के आरटीआई में खुलासा

    पौड़ी(एसएनबी)। गढ़वाल के एकमात्र सरकारी इंजीनियरिंग कालेज के प्राचार्य का जिम्मा एक ऐसे व्यक्ति के पास है, जिन्हें कई कालेजांे ने बर्खास्त किया हुआ है। इतना ही नही हाईकोर्ट ने उन्हें डारेक्टर के पद से भी अयोग्य घोषित ठहरा चुका है। सूचना के अधिकार के तहत हासिल की गई जानकारी के अनुसार गोविंद बल्लभ पंत इंजीनियरिंग कालेज घुड़दौड़ी के प्राचार्य कर्नल (सेवानिवृत्त) जेएस विर्क की पूरी कुंडली विवादों से भरी हुई है। विर्क ने जिस भी संस्थान में नौकरी की या तो कुछ दिन में ही उन्हें चलता कर दिया गया या फिर उनके खिलाफ जांच बिठा दी गई। लेकिन उत्तराखंड मे वे मजे में नौकरी कर रहे है। कालेज के एक कर्मचारी ने उनके खिलाफ आवाज उठाई तो उस कर्मचारी को ही बर्खास्त कर दिया गया। गोविंद बल्लभ पंत इंजीनियरिंग कालेज मे उसकी नियुक्ति की प्रक्रिया में तमाम नियम कानूनो को दरकिनार किया गया। अपने आवेदन पत्र मे उन्होंने खुद को एनआईटीटीआर भोपाल मे डायरेक्टर के रूप मे चयनित बताया, जो कि कभी हुआ ही नही था। बतौर प्रोफेसर 15 साल का अनुभव मांगे जाने पर विर्क ने बताया कि वह संत लोगोवाल इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी में प्रोफेसर के रूप मे कार्य

    कर चुके है। जबकि उन्हें उस कालेज से असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप मे ही बर्खास्त कर दिया गया था। उन्होंने अपनी बेसिक पे 22400 रुपये बतायी, जबकि उनका वास्तविक मूल वेतन 20400 रुपये था। इसके अलावा उन्होंने अपने खिलाफ कभी दोष सिद्ध होने वाली बात छिपाई, जबकि लांेगोवाल से उनकी बर्खास्तगी के साथ ही उन पर 66 हजार की रिकवरी जारी की गई थी। उतराखंड सरकार उन पर कितनी मेहरबान रही इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्होंने अपने जितने भी अनुभव बताए, उनके लिए किसी प्रमाण पत्र की आवश्यकता नही समझी गई। लोगोवाल के एसएलआईईटी इंजीनियरिंग कालेज से विर्क ने असिस्टेट प्रोफेसर के रूप मे नौकरी शुरू की।

  2. Anna said

    Excellent post.I want awriter.org to thank you for this informative read, I really appreciate sharing this great post. Keep up your work.

  3. I don’t know, that was the show I missed to see the Walkmen. *sigh* Come on http://tropaadet.dk/estradacortez41471081845

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: